उस दिन

IMG-20160613-WA0003

ना रात का नशा था,
ना सुबह की ताजगी
और ना ही शाम की थकान |

मैं तो भरी दोपहर में मिला था तुमसे,
यूँ ही बस बिना किसी बात के |
तुमसे मिलने की कोई ख़ास वजह लाता भी कहाँ से,
जब जिंदगी ही बड़ी बेखास सी हो गयी थी |

हमेशा से अलग कुछ शांत से थे तुम ,
जैसे मेरी ही तरह कुछ सोच रहे हो तुम भी |
तलाश रहे हो जवाब उन सवालों के,
जो अपने जवाबों की तरह खुद भी अधूरे से है |

तुम्हारी ख़ामोशी और खोयेपन में,
मुझे बिना मांगे अपने सवाल और जवाब दोनों मिल गए |
तुम अगर सागर हो कर भी निरुत्तर हो सकते हो
जीवन की अनिश्चित लहरों से,
मैं तो एक अदद इंसान हूँ, मेरी बिसात ही क्या है |

उस दिन अच्छा लगा तुम से मिल के समुन्द्र
उस दिन तुम्हारी ख़ामोशी ने सब कुछ कह दिया

Advertisements

phir ek baarish!!

saavan

आज फिर घिर आये ये मनमाने बादल
मेरी कभी सुनते ही नहीं
बिल्कुल मेरी प्रेयसी पर गए है
खेर उसकी तरह इनसे भी कब तक बचूँगा
चलो आज भींग ही जाता  हूँ
इन के भी प्यार में !!